Haryana

गुरुग्राम: एक दिन में 13.26 फीसदी बच्चों व 23.37 फीसदी महिलाओं को दी कृमि रोग की दवा

संजय कुमार मेहरा | May 24, 2022 02:42 PM


-एक से 19 वर्ष की आयु के 05.50 लाख बच्चों व 20 से 24 वर्ष की 99 हजार 200 महिलाओं तक पहुंचने का लक्ष्य
-23 मई से 29 मई तक दो चरणों में चलाया जा रहा है राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान

संजय कुमार मेहरा
गुरुग्राम। कृमि से छुटकारा, सेहतमंद भविष्य हमारा स्लोगन के साथ जिले में 23 से 29 मई 2022 के बीच चलाए जा रहे राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान को सफल बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तत्परता से जुटा है। शहरी और ग्रामीण अंचल के अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों पर निर्धारित आयु सीमा के बच्चों और युवतियों, महिलाओं को कृमि रोग की निशुल्क दवा दी जा रही है।

यहां नागरिक अस्पताल सेक्टर-10 के मुख्य गेट नंबर-2 के ठीक बाहर इसके लिए काउंटर लगाया गया है, ताकि अस्पताल में आने वालों को उनकी आयु सीमा के हिसाब से दवा वितरित की जा सके। मंगलवार को यहां पर तैनात डॉ. राहुल, डा. प्रियदर्शन व नर्सिंग ऑफिसर पूनम सहराय द्वारा निर्धारित आयु सीमा के बच्चों और महिलाओं को बुला-बुलाकर पंजीकरण किया गया और उन्हें कृमि रोग की दवा दी गई। दवा देने के साथ ही उनकी काउंसलिंग भी की गई कि वे अपने आस-पास रहने वाली महिलाओं, बच्चों को भी यह दवा लेने के लिए जागरुक करें। उन्हें नागरिक अस्पताल में भेजें या फिर वे किसी नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाकर यह दवा ले लें। बच्चों और उनके अभिभावकों को खान-पान संबंधी जानकारियां भी यहां दी गई। इस अभियान के तहत मात्र एक दिन में 01 से 19 साल के 5 लाख 50 हजार में से 23.37 फीसदी (1 लाख 28 हजार 537) बच्चों और 20 से 24 साल के बीच 99 हजार 200 महिलाओं में से (13.26) 13 हजार 126 को कृमि रोग की दवा दी गई।

 

यह रखा गया है लक्ष्य
अभियान के तहत डोर-टू डोर के माध्यम से जिला में एक वर्ष से 19 वर्ष की आयु वर्ग के 05 लाख 50 हजार बच्चों व प्रजनन आयु वर्ग यानी 20 से 24 वर्ष की 99 हजार 200 महिलाओं तक पहुंचने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अभियान को 2 राउंड में पूरा किया जाएगा। पहला राउंड 23 से 26 मई के बीच शुरू हो चुका है, जिसमें निर्धारित लक्ष्य की शत-प्रतिशत प्राप्ति के लिए स्टाफ गम्भीरता से कार्य कर रहा है। फिर भी यदि कोई बच्चा या महिला पहले राउंड में छूट जाते हंै तो उनकी पहचान कर उन्हें 27 से 29 मई के बीच दूसरे राउंड में शामिल किया जाएगा।

कृमि रोग बच्चों की सेहत के लिए हानिकारक: डा. शैलेंद्र
उप-सिविल सर्जन एवं इस अभियान के नोडल अधिकारी डा. शैलेंद्र कुमार ने बताया कि कृमि संक्रमण (रोग) बच्चों की सेहत के लिए बहुत अधिक हानिकारक होते हैं। बच्चे इस रोग से अगर ग्रस्त हो जाए तो वह कुपोषण, भूख न लगना, पेट में सूजन, खून की कमी, बेचैनी और उल्टी-दस्त से परेशान रहता है। इसलिए जरूरी है कि हर माता-पिता अपने बच्चों को कृषि रोग से निपटने के लिए यह दवा स्वास्थ्य केंद्रों पर जाकर जरूर दिलाएं। कृमि संक्रमण से बचाव के लिए कृमि नियंत्रण की दवाई एल्बेंडाजोल की गोलियां स्कूलों, आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से भी निशुल्क दी जा रही हैं। जिला में बच्चों, किशोरों व युवाओं को कृमि रोग से सुरक्षित रखने के लिए 23 मई से राष्ट्रीय कृमि मुक्ति अभियान की शुरुआत की गई थी। यह अभियान दो चरणों में विभाजित किया गया है।

 

 
Have something to say? Post your comment
More Haryana News
अमृत महोत्सव:पत्रकारिता युग मे आती क्रांति
जींद जिला में सड़क हादसे में गुरुग्राम की डॉक्टर समेत तीन की मौत
गुरुग्राम: नकली हादसे देखकर रुकते हैं, असली को करते हैं अनदेखा...
गुरुग्राम: आजादी का अमृत महोत्सव...एचकेआई फिल्म एकेडमी ने निकाली तिरंगा यात्रा
रोहतक: तैमूरपुर गांव की गलियों में तिरंगा यात्रा, गूंजे वंदे मातरम-भारत माता के जयकारे...
गुरुग्राम में बालक मितांश ने अपने साथ अपनी साइकिल का भी मनाया जन्मदिन
द्रोण नगरी गुरुग्राम में हरे रामा-हरे कृष्णा के गीतों पर जगन्नाथ यात्रा में झूमे श्रद्धालु
गुरुग्राम: बालूदा गांव से स्वागत की यादों को सहेज ले गए आईएएस सचिन शर्मा
रोहतक। शीतला माता एकेडमी एवम मानव धर्म आश्रम में योग दिवस पर लगाया योग शिविर
गुरुग्राम: सेक्टर-10 नागरिक अस्पताल से डीसी ने किया पोलियो रोधी अभियान शुरू