Saturday, June 15, 2024
Follow us on
BREAKING NEWS
वार्ड नंबर 28 मलोया में छबील का आयोजन हुआफोर्टिस अस्पताल मोहाली के डॉक्टरों ने रक्तदान करने से स्वास्थ्य लाभों पर प्रकाश डालासूचना, जनसंपर्क महानिदेशक की मौजूदगी में चार दिन तक हुई स्क्रीनिंगवेलवेट क्लार्क्स एक्सोटिका, जीरकपुर-चंडीगढ़ में 'गो मैं-गो' फेस्टिवल शुरूपंजाब सरकार जल्द करेगी 300 वैटरनरी अधिकारियों की भर्ती: गुरमीत सिंह खुडि्डयांश्मशान घाट के जीर्णोद्धार के लिए 7 करोड़ रुपए खर्च करना आप-कांग्रेस की खुली लूट का संकेत: भाजपा अध्यक्षअम्बाला के एसडी कॉलेज में आयोजित किया गया विश्व रक्तदाता दिवसमुख्यमंत्री नायब सिंह द्वारा पद्मश्री अवार्डियों को किया गया सम्मानित
 
 
 
Haryana

गुरुग्राम: भर्ती हुए थे डाटा एंट्री ऑपरेटर, अब काम करवा रहे स्वीपर का...

Gurugram: Data entry operator was recruited, now t | April 07, 2022 07:30 PM

-कई महीने से वेतन भी नहीं देने पर बिफरे अस्पताल के कर्मचारी
-नागरिक अस्पताल में ठेके पर लगे कर्मचारियों ने की हड़ताल

गुरुग्राम: पहले तो कई महीने से वेतन नहीं दिया जा रहा। उसके बाद उनके मूल काम से हटाकर दूसरा काम करवाने का दबाव बनाया जा रहा है। ऐसे भला कैसे और कौन काम करेगा। यह शिकायत है नागरिक अस्पताल के उन कर्मचारियों की, जो कि ठेकेे पर लगे हैं। अपनी मांगों को लेकर इन कर्मचारियों ने गुरुवार को काम छोड़कर हड़ताल शुरू की। इनमें काफी संख्या में महिलाएं भी शामिल हैं।

यहां हड़ताल कर रहे कर्मचारी मनजीत, योगेश, लवकेश, शर्मिला, पूनम आदि ने बताया कि पिछले कईसाल से वे यहां काम करते आ रहे हैं। अपना काम पूरी ईमानदारी के साथ करते हैं। इसके बाद भी उन्हें परेशान किया जा रहा है। यहां 214 कर्मचारी हैं, जिनकी तीन महीने से सेलरी नहीं दी जा रही। अभी तक तो सेलरी की मांग कर रहे थे। इसी बीच एक नया विवाद भी खड़ा हो गया। कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें जिन पदों पर लगाया गया था, उन पर वे काम कर रहे थे। चुपके से उनके पदों को ही बदल दिया गया। डाटा एंट्री ऑपरेटर शर्मिला के मुताबिक कहने को तो वह डीओ है, लेकिन उससे स्वीपर काम करने के आदेश दिए गए हैं। इसी तरह की शिकायत पूनम की भी थी। उनका पहले तो वेतन 23,225 रुपये तय हुआ था, लेकिन उनकी पोस्ट घटाने के साथ वेतन को भी घटाकर अब 14 हजार रुपये कर दिया गया है। जो कि नाइंसाफी है।

सिफारिश वाले डीओ लगाने के लिए दूसरे कर्मचारियों के साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है। पुराने डीओ को अपने पदों से हटाकर यहां सिफारिश से 4 नए डीओ एडजस्ट किए गए हैं। सभी कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि अस्पताल के एक स्थायी क्लर्क के भतीजे को भी लगाया गया है। शिकायत सैल में 8 कर्मचारी थे, जिनमें से 4 को स्वीपर लगा दिया गया है। 10 साल वालों को तो हटा दिया है, वहीं एक साल वालों को रख लिया है। इन पदों को बदलने के लिए उन्हें किसी तरह की सूचना तक नहीं दी गई। उनकी एजुकेशन डीओ के स्तर की है तो वे कैसे स्वीपर का काम करें।

अपनी शिकायत लेकर सभी कर्मचारी सिविल सर्जन डा. वीरेंद्र यादव के पास भी पहुंचे थे। उनकी तरफ से भी कोई खास मदद नहीं की गई। कर्मचारियों ने कहा कि अब तक तो वे कोरोना योद्धा कहलाए, लेकिन अब उनके साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है।

 
Have something to say? Post your comment
More Haryana News
सूचना, जनसंपर्क महानिदेशक की मौजूदगी में चार दिन तक हुई स्क्रीनिंग
अम्बाला के एसडी कॉलेज में आयोजित किया गया विश्व रक्तदाता दिवस
मुख्यमंत्री नायब सिंह द्वारा पद्मश्री अवार्डियों को किया गया सम्मानित
शहरी निकाय मंत्री सुभाष सुधा ने शहरी क्षेत्रों में कृषि भूमि पर छूट देने का किया ऐलान
पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने जिले में सरकार द्वारा ढांचागत सुविधाओं पर दिए जा रहे फॉक्स को लेकर किया धन्यवाद
लोकसभा की चुनावी हार के बाद बीजेपी ने नीतिगत हार भी की स्वीकार: हुड्डा
शहरों में 8 से 12 और गांवों में 15 से 17 घंटे बिजली के कट लग रहे: अनुराग ढांडा
गुरुग्राम: पुलिस ने ड्रोन से रेकी करके कच्ची शराब की भठ्ठी का किया भंडाफोड़
राज्य के सभी सरकारी व प्राइवेट कॉलेजों में सोलर सिस्टम लगाए जाएं : सीमा त्रिखा
जल्द शुरू होगा शिक्षक वर्ग का ट्रांसफर ड्राइव: शिक्षा मंत्री