Tuesday, May 21, 2024
Follow us on
BREAKING NEWS
फिट इंडिया मार्शल आर्ट्स स्कूल गेम्स नेशनल चैंपियनशिप और अवॉर्ड समारोह का रोहतक में हुआ भव्य आयोजन आज होगा फिट इंडिया मार्शल आर्ट्स स्कूल गेम्स नेशनल चैंपियनशिप और अवॉर्ड समारोह का रोहतक में भव्य आयोजन फतेहगढ़ के बॉक्सिंग खिलाड़ी सूरज रोहिल्ला बने ब्रिक्स फिटनेस एंड डांस एकेडमी के ब्रांड एंबेसडरदिशा वूमैन वैलफेयर ट्रस्ट मानसा में करेगी महिला पंचायतउद्योगों के लिए लाभदायक है सौलर सिस्टम:बलदेव सिंह सरांभिवानी: ऑल नर्सिंग ऑफिसर्स वेलफेयर एसोसिएशन हरियाणा की हुई अहम बैठकविमल कालिया के कविता संग्रह निंबोलियां का विमोचनपीएचडीसीसीआई शी-फोरम ने किया गोष्ठी का आयोजन
 
 
 
Haryana

गुरुग्राम: साहित्य प्रेमियों का जायका व हाजमा बढ़ाएगी पत्रकार अमित नेहरा की पुस्तक 'कहो ना

Sanjay Mehra | January 22, 2021 04:12 PM

-वरिष्ठ पत्रकार अमित नेहरा ने लिखी 'कहो ना पुस्तक
-कहो ना से पहले चार पुस्तकें लिख चुके हैं अमित नेहरा

संजय मेहरा
गुरुग्राम। वरिष्ठ पत्रकार, लेखक और राजनीतिक विश्लेषक अमित नेहरा ने मानवीय संवेदनाओं पर आधारित, 'कहो नाÓ नामक एक पुस्तक लिखी है। वैसे तो इस पुस्तक को साहित्य का फास्ट फूड कहा जा सकता है। मगर महत्वपूर्ण बात यह है कि असल के फास्ट फूड की तरह इस साहित्यिक फास्ट फूड के साइड इफेक्ट्स नहीं हैं। बल्कि कहो ना को पढ़कर साहित्य प्रेमियों का जायका व हाजमा और ज्यादा बढ़ेगा।

एकदम अनूठी शैली में लिखी गई यह विश्वस्तरीय किताब दरअसल 101 लघु स्मृतियों और अनुभूतियों का संग्रह है। कहो ना में जिंदगी के हर रंग मसलन सुख-दु:ख, हास-परिहास, सज्जनता-दुर्जनता, व्यंग्य, मासूमियत, प्यार, घृणा, दयनीयता, अक्खड़पन, फक्कड़पन, राग, विराग, अनुराग, वात्सल्य, कुटिलता, क्षमा, जाहिलता, अहं और वहम आदि का समावेश है। अमित नेहरा कहो ना से पहले कि़स्सागोई-रंगीला हरियाणा, कोविड-19-2020, अजब कोविड के गजब किस्से और कोविड-19 डोंट कम अगेन नामक चार पुस्तकें लिख चुके हैं। इसी क्रम में यह उनकी पांचवीं पुस्तक है। वरिष्ठ पत्रकार एवं इस पुस्तक के लेखक अमित नेहरा के अनुसार आज के युग में पठन-पाठन के लिए लोगों के पास समय बेहद कम है। अत: कहो ना में कम शब्दों में बहुत कुछ कहने का प्रयास किया गया है। अभी यह पुस्तक विश्वविख्यात ई-कॉमर्स कम्पनी अमेजन पर ई-बुक के रूप में उपलब्ध है। कोई भी पाठक इसे अमेजन की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकता है।

 

पंच लाइनों का अभिनव प्रयोग भी है खास

अमित नेहरा के मुताबिक, कहो ना की एक खासियत यह भी है कि इसमें रचनाओं के शीर्षक न देकर अंत में पंच लाइनों का अभिनव प्रयोग किया गया है। इसे पाठकों ने बेहद पसंद किया है। कहो ना के आर्टिकल्स को और अधिक धारदार व असरदार बनाने के लिए खूबसूरत मॉडर्न आर्ट के प्रयोग ने पुस्तक की खूबसूरती को नए आयाम तक पहुंचा दिया है। अमेजन पर कहो ना ई-बुक को जबरदस्त रिस्पांस मिला है और पाठकों ने बड़ी बेहतरीन टिप्पणियां की हैं। कहो ना के लेखक अमित नेहरा का कहना है कि वे भविष्य में भी इसी तरह साहित्य की सेवा करते रहेंगे। हरियाणा के असल किस्सों पर आधारित उनकी एक अन्य किताब भी प्रकाशनाधीन है।

 

 
Have something to say? Post your comment
More Haryana News
भिवानी: ऑल नर्सिंग ऑफिसर्स वेलफेयर एसोसिएशन हरियाणा की हुई अहम बैठक
बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रही सीमा सहाय को यूएनजीसीएनआई ने किया सम्मानित
मुख्यमंत्री नायब सैनी ने पूर्व राष्ट्रपति कोविंद से की मुलाकात
सुनील जागलान बने ग्राम एसोसिएशन ऑफ़ भारत के शेरपा
विधान सभा नहीं पहुंचे रणजीत चौटाला, अध्यक्ष ने दिया एक और मौका
बिजली घोटाले में रणदीप सुरजेवाला के खिलाफ विजीलेंस ने हाइकोर्ट में पेश की स्टेटस रिपोर्ट
जींद जिले के खिलाड़ी सूरज रोहिल्ला नही हैं किसी परिचय के मोहताज
पंचकूला विधानसभा की विजय संकल्प रैली 28 अप्रैल को, सीएम नायब सैनी होंगे मुख्य अतिथि
इनेलो ने फरीदाबाद, सोनीपत व सिरसा में उतारे प्रत्याशी
हरियाणा में लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगा अकाली दल, इनेलो का करेगा समर्थन