Haryana

गुरु तेग बहादुर ने धर्म और समाज रक्षा के लिए अपना दिया बलिदान:दत्तात्रेय

November 24, 2021 11:02 PM
 
 



चंडीगढ़, 24 नवंबर। हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने सिखों के नौवें गुरू  गुरू तेग बहादुर जी के शहीदी दिवस पर पंचकूला के ऐतिहासिक गुरूद्वारा नाडा साहिब में माथा टेका तथा गुरू तेग बहादुर जी को नमन किया।
राज्यपाल ने कहा कि गुरू तेग बहादुर जी एक आध्यात्मिक, वीर योद्धा और देशभक्त थे। उन्होंने कहा कि गुरू तेग बहादुर जी ने गुरू नानक देव जी के द्वारा सिख धर्म की स्थापना करने उपरांत धर्म को आगे बढाने के लिए उस समय की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए अंध विश्वास, छूआ-छूत व जाति-पाति जैसी सामाजिक बुराइयों को दूर करने के लिए समाज में जागृति पैदा की।
राज्यपाल ने कहा कि गुरु तेग बहादुर जी ऐसे महापुरुष, तपस्वी और देशभक्त थे, जिन्होंने धर्म, देश और समाज के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया। उन्होंने युवा पीढ़ी को गुरु तेग बहादुर जी द्वारा दिखाए मार्ग पर चलते हुए नशामुक्ति, अहिंसा और सबको साथ लेकर चलने के लिए समाज में जागरूकता पैदा करने का आह्वान किया।
दत्तात्रेय ने कहा कि उन्हें खुशी है कि नाडा साहिब गुरुद्वारा द्वारा कोविड के दौरान समर्पण भाव से हजारों लोगों को लंगर खिलाया गया। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह गुरूद्वारा इसी प्रकार से सेवा भाव से लोगों की मदद करता रहेगा।  
इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त मोहम्मद इमरान रजा, एसडीएम ऋचा राठी, तहसीलदार पुण्य दीप शर्मा, नाडा साहिब गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रबंधक सरदार मलकीत सिंह, खजांची अमृतपाल सिंह, गुरुद्वारा नाडा साहिब के हैड ग्रंथी सरदार जगजीत सिंह भी उपस्थित थे।
 
Have something to say? Post your comment
More Haryana News
हर वर्ष 2500 डॉक्टर तैयार करने का लक्ष्य:मनोहर लाल विश्वविद्यालयों को आत्मनिर्भर बनाने में पूर्व छात्रों का अहम योगदान:दत्तात्रेय हरियाणा में आज से शुरू होंगे अंत्योदय ग्राम उत्थान मेले:मनोहर लाल सही सुझाव आने पर बदल सकते हैं एचपीएससी भर्ती नियम:मनोहर लाल सही सुझाव आने पर बदल सकते हैं एचपीएससी भर्ती नियम:मनोहर लाल आप कार्यकर्ताओं ने एचपीएससी स्टाफ को किया नजरबंद खराब मीटरों को तुरंत बदल कर स्मार्ट मीटर लगाएं:पचनंदा परिवहन कर्मचारियों के लिए बने सेवा नियम हरियाणा विधानसभा का शीतकालीन सत्र 17 दिसंबर से एचपीएससी केनौकरी बिक्री घोटालों की जांच शुरू होने से पहले हुई बंद!