Haryana

आरएसएस के एजेंडे को देश पर थोंपना चाहती है भाजपा:सैलजा

September 12, 2021 12:55 AM


चंडीगढ़, 11 सितंबर। हरियाणा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि बीजेपी की केंद्र व प्रदेश सरकार संघ के एजेंडे को देश प्रदेश में थोंपना चाहती है। आज जनता के संविधान प्रदत अधिकारों को कुचला जा रहा है। इसके खिलाफ अधिवक्ताओं को आगे आकर संविधान की रक्षा करनी होगी। कुमारी सैलजा शनिवार को हरियाणा कांग्रेस लीगल डिपार्टमेंट की इंडेक्शन सेरेमनी में बतौर मुख्यातिथि अधिवक्ताओं को संबोधित कर रही थी। 
कार्यक्रम के दौरान औपचारिक तौर पर डिपार्टमेंट के नवनियुक्त पदाधिकारियों को नियुक्ति पत्र भी सौंपे गए। इससे पूर्व कार्यक्रम में पहुंचने पर लीगल डिपार्टमेंट के प्रदेश चेयरमैन एडवोकेट लाल बहादुर खोवाल व उनकी टीम ने मुख्यातिथि कुमारी सैलजा व विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित डिपार्टमेंट के राष्ट्रीय महासचिव विपुल महेश्वरी का स्वागत किया। समारोह को संबोधित करते हुए कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि जब से बीजेपी की सरकार बनी है, तब से संविधान को दरकिनार करते हुए संविधान की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है।
 देश की संवैधानिक संस्थाओं चाहे वह चुनाव आयोग हो या सीबीआई, ईडी, इन्कम टैक्स डिपार्टमेंट या न्यायपालिका की बात करें, इन सभी के संविधान प्रदत अधिकारों में हस्तक्षेप करते हुए विरोधियों के खिलाफ इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से पूर्व में वकीलों ने देश की आजादी में योगदान दिया था, उसी तरह आज भी वकीलों को आगे आकर संविधान की रक्षा में अपना योगदान देना होगा ताकि इन संवैधानिक संस्थाओं के अस्तित्व को बचाया जा सके और संविधान की मूल भावना से बीजेपी किसी प्रकार की छेडख़ानी न कर सके।
सैलजा ने कहा कि हरियाणा में अब तक 16 बार जींद, पानीपत, कैथल, कुरुक्षेत्र जैसे जिलो में इंटरनेट पर प्रतिबंध लगाया गया है। भारत इंटरनेट बैन के मामले में दुनिया में काफी आगे है। देश में इस साल अब तक करीब 32 बार इंटरनेट पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है। 2020 में 8,927 घंटों तक इंटरनेट बैन रहा था जिससे सरकार को लगभग 20,000 करोड़ रुपये का आर्थिक नुकसान हुआ है।
विशिष्ट अतिथि विपुल महेश्वरी ने कहा कि जिस तरह से बीजेपी नए नए नियम, कानून व पॉलिसी लेकर आ रही है, उससे संविधान की मूल भावना खतरे में है। बीजेपी संख्याबल की आड़ में ऐसे ऐसे बिल पास कर रही है, जो सीधे तौर पर संविधान पर हमला है। उन्होंने कहा कि एडवोकेट ही ऐसे असंवैधानिक कानूनों के खिलाफ सशक्त तौर पर खड़े हो सकते हैं।
समारोह की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश चेयरमैन एडवोकेट लाल बहादुर खोवाल ने कहा कि वकीलों को बुद्धिजीवी वर्ग में अग्रणी माना जाता है। ऐसे में हमारा यह कर्तव्य भी बनता है कि हम मिलकर एक सांगठनिक तौर पर गरीब, कमजोर, जरूरतमंद तथा शोषित वर्ग के अधिकारों की रक्षा करें।
इस अवसर पर पूर्व डिप्टी चीफ मिनिस्टर चंद्रमोहन, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव  रामकिशन गुज्जर, श्रीमती सुधा भरद्वाज अध्यक्ष हरियाणा महिला कांग्रेस,रोहित जैन, कोषाध्यक्ष हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी,मीडिया कोऑर्डिनेटर निलय सैनी, रणधीर राणा, प्रदेश प्रवक्ता संजीव भारद्वाज, बालमुकुंद शर्मा भी उपस्थित थे।
 
Have something to say? Post your comment