Haryana भिवानी: अब दूसरों को राह दिखाएंगी डेरा प्रेमी बुजर्ग सूरजभान की आंखें, मरणोपरांत दान की आंखें
शहर की कृष्णा कॉलोनी निवासी 85 वर्षीय सूरजभान व उनका परिवार काफी से डेरा सच्चा सौदा से जुड़ा है। डेरा सच्चा सौदा की ब्लड व आई डोनेशन समिति के जिम्मेवार मनीष इन्सां, मनोज इन्सां व पंकज इन्सां को श्री सूरजभान के बारे में जानकारी देते हुए प्रेमी गौरव इंसान ने बताया कि श्री सूरजभान इंसा ने संत डा. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इंसा की पावन प्रेरणा पर चलते हुए नेत्रदान के लिए पहले ही फार्म भरा हुआ था। 
Haryana हरियाणा में बदले राजनीति के मायने आया राज ‘मनोहर’
"कुछ लोग थे जो वक्त के सांचे में 'ढल' रहे हैं, कुछ लोग हैं जो वक्त के सांचे 'बदल' रहें हैं..." जी हाँ हम बात कर रहे हैं ऊर्जा से ओतप्रोत और हरियाणा के शासन में शुचिता युक्त नवाचार के प्रणेता माननीय मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल जी की।
National बेंगलूरू: कराटे चैंपियनशिप में एमडीयू रोहतक के दीपक सोमवार को स्वर्ण पदक के लिए अरुणाचल के संजय से भिड़ेंगे
Haryana लायंस ब्लड सेंटर द्वारा यूपी और पंजाब में बेचा जाता था गुरुग्राम के लोगों का दान किया हुआ खून
इस छापेमारी के दौरान खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के अधिकारियों में एसडीसीओ गुरुग्राम परविंदर मलिक और डीसीओ अमनदीप चौहान ने काफी सनसनीखेज खुलासे किए हैं। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि नियमों के अनुसार किसी भी ब्लड सेंटर पर मेडिकल अधिकारी की पूर्णकालिक तैनाती होनी चाहिए। उसकी मौजूदगी में ही डोनर सिलेक्शन और रक्त दाता के शरीर से रक्त लिया जाना चाहिए। यहां पर दर्शाया गया मेडिकल ऑफिसर डॉ. विपिन कथूरिया पालम विहार, गुरुग्राम स्थित विजया डायग्नोस्टिक सेंटर पर पैथोलॉजिस्ट के रूप में कार्य करता हुआ पाया गया।
Haryana सिरसा: डेरा सच्चा सौदा रूहानी स्थापना दिवस पर उमड़ा श्रद्धा का सैलाब
पावन भंडारे की शुभ वेला पर डेरा प्रमुख संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह इन्सां द्वारा भेजा गया रुहानी पत्र पढ़कर सुनाया गया, जिसमें डेरा प्रमुख द्वारा 139वें मानवता भलाई के रूप में अनाथ मातृ-पितृ सेवा मुहिम शुरू की। जिसके तहत डेरा सच्चा सौदा की साध-संगत अनाथ बेसहारा बुजुर्गों की संभाल करेगी।
Haryana गुरुग्राम: पटौदी बार एसोसिएशन द्वारा पत्रकार फतह सिंह उजाला का सम्मान
पटौदी बार एसोसिएशन के पूर्व पदाधिकारी एवं प्रवक्ता एडवोकेट सुधीर मुदगिल ने कहा कि आज के दौर में पत्रकारिता करना बहुत ही चुनौतीपूर्ण और जोखिम का कार्य बन चुका है । सही मायने में पत्रकारिता का क्षेत्र एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें 24 घंटे सक्रिय रहना पड़ता है । कब और कहां किस प्रकार की घटना घटित हो जाए ? संबंधित घटना स्थल पर पहुंचना और वास्तविकता से सभी को परिचित कराना निश्चय ही चुनौती पूर्ण कार्य है ।